नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी के छात्र की मौत पर राजस्थान पुलिस के रवैये पर सुप्रीम कोर्ट का गुस्सा, फैसला सुरक्षित

सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को राजस्थान पुलिस द्वारा 2017 में जयपुर स्थित नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी के छात्र विक्रांत नगाइच की संदिग्ध मौत के मामले को बंद करने की राजस्थान पुलिस की कोशिश पर नाराजगी जताई।

न्यायमूर्ति रोहिंगटन नरीमन की अध्यक्षता वाली 3-सदस्यीय पीठ ने मामले में राजस्थान पुलिस द्वारा दायर क्लोजर रिपोर्ट पर नाराजगी व्यक्त की। शीर्ष अदालत ने 8 जून को राजस्थान पुलिस से दो महीने में मामले का अनुसंधान करने का अनुरोध किया था।

मंगलवार को न्यायमूर्ति नरीमन की पीठ ने विक्रांत की माँ नीतू नगाइच की याचिका पर फैसला सुरक्षित रखा जिसमें सीबीआई से मामले का अनुसंधान करने का अनुरोध किया गया है। याचिका में उल्लेख किया गया कि तीन साल बाद भी पुलिस किसी नतीजे पर नहीं पहुंची है।

पुलिस की जांच निराशाजनक है, इसलिए मामले की जांच सीबीआई को सौंपने की जरूरत है। 14 अगस्त 2017 को, विक्रांत की काया को स्कूल के करीब रेलवे लाइन के करीब खोजा गया था।

Leave a Comment