मध्य प्रदेश में अभी भी नर्मदा नदी के तट पर बारिश से राहत

अपडेट किया गया | Tue, 01 Sep 2020 07:39 AM (IST)

मध्य प्रदेश मौसम अपडेट: इंदौर / भोपाल (टीम नादुनिया)। मध्य प्रदेश में अब बारिश और बाढ़ से राहत मिलने लगी है। इसके बाद भी, नर्मदा के साथ अलग-अलग नदियाँ अभी भी खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। जिला मुख्यालय के समीप राजघाट पर नर्मदा का जल स्तर बार-बार बढ़ता जा रहा है, क्योंकि बड़वानी में बांधों से बार-बार पानी निकाला जाता है। सोमवार रात छह बजे राजघाट में जलस्तर खतरे के निशान से करीब 11 मीटर अधिक 134.350 मीटर पर पहुंच गया। इसके कारण, बड़वानी-राजघाट सड़क की दूसरी पुलिया अतिरिक्त रूप से जलमग्न हो गई। बता दें कि अगर सरदार सरोवर को पूर्ण रेटेड क्षमता के रूप में भरा जाता है, तो राजघाट में पानी की डिग्री 138.680 मीटर हो जाएगी। पिछले 12 महीनों में, प्राथमिक समय के लिए सरदार सरोवर को पूरी रेटेड क्षमता के रूप में भरा गया था।

गांधी सागर के 13 गेट बंद

मंदसौर में सोमवार दोपहर 12:30 बजे गांधीनगर बांध का जलस्तर 1306.33 फीट था। बांध का आने वाला पानी 98 हजार 831 क्यूसेक था और एक लाख 69 हजार 989 क्यूसेक पानी का प्रक्षेपण किया जा रहा था। सोमवार रात तक, गांधीसागर बांध के केवल तीन गेट खुले हैं, इससे पहले 16 गेट खोले जा चुके हैं। शोपुर में पार्वती नदी खतरे के निशान से 11 फीट ऊपर, चंबल अतिरिक्त रूप से मालवा की बारिश के कारण श्योपुर जिले की चंबल और पार्वती नदियों में बह गई। पार्वती नदी खतरे के निशान से 10 फीट ऊपर चली गई है। चंबल नदी का जलस्तर खतरे के निशान की दिशा में बढ़ सकता है। सोमवार को कलेक्टर, एसपी और एसडीएम नदियों के किनारे बसे गांवों, पुलों और महत्वपूर्ण सड़कों पर जाने के लिए पहुंचे। अंतिम 12 महीनों की तुलना में जिले में केवल 65 पीसी वर्षा हुई है।

सिवनी-बालाघाट के तीन पुल बाढ़ के कारण खड़े नहीं हो सकते हैं

सिवनी जिले के भीमगढ़ से सुनवारा के बीच वैनगंगा नदी पर बने पुल के तीन करोड़ रुपये के डिस्चार्ज से पहले जांच शुरू हो गई है। इसके अलावा, छपारा को भीमगढ़ बस्ती के करीब भीमगढ़ से जोड़ने वाला एक पुल इसके अलावा वैनगंगा नदी में बाढ़ में बह गया है, जिसकी कीमत 4 करोड़ रुपये है। बालाघाट के सर्रा में पुल की रणनीति इसके अलावा वैनगंगा की बाढ़ से बह गई। पुल का निर्माण लगभग 810.39 लाख रुपये के मूल्य पर किया गया था। पुल को पिछले महीने पूरा किया गया था और भीमगढ़ से सुनवारा के बीच वैनगंगा नदी पर बनाया गया पुल पूरी तरह से अंतिम महीने के लिए तैयार किया गया था। 150 मीटर लंबे पुल के विकास का ठेका भोपाल की एचवी कंस्ट्रक्शन कंपनी को दिया गया।

द्वारा प्रकाशित किया गया था: प्रशांत पांडे

नै दूनिया ई-पेपर सीखने के लिए यहीं क्लिक करें

नै दूनिया ई-पेपर सीखने के लिए यहीं क्लिक करें

Download NewDuniya App | मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश और दुनिया की सभी जानकारी के साथ नै दुनीया ई-पेपर, कुंडली और बहुत सारे उपयोगी प्रदाता प्राप्त करें।

Download NewDuniya App | मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश और दुनिया की सभी जानकारी के साथ नै दुनीया ई-पेपर, कुंडली और बहुत सारे उपयोगी प्रदाता प्राप्त करें।

Leave a Comment