premvijay patil

बारिश का पानी बगीचे की गुफाओं को नुकसान पहुंचा रहा है, भगवान बुद्ध की मूर्ति का सिर गिर गया

* बौद्ध मठों और उनकी परंपरा के लिए महत्वपूर्ण * बाग़ की गुफाएँ पाँचवीं-छठी शताब्दी की हैं प्रेमविजय पाटिल धार (नई दुनिया) बाग में पाँचवीं-छठी शताब्दी की गुफाएँ बौद्ध मठ और परंपरा की गवाह हैं। ये विश्व धरोहर में विकसित हो सकते हैं, हालांकि निराशाजनक स्थिति में फिर भी हैं। उन्हें संरक्षण दिया जा रहा है, हालांकि पुरानी त्रुटियां फिर भी पैदा हो रही हैं।…